Friday, June 26, 2009

कुत्तों की यूनिटी खतरे में ...

आज, जब मै अपने रूम से निकला तो देखा की एक कुत्ता एक कूड़ा उठाने वाले पर जोर जोर से भौंक रहा है । वह बहुत जोर से भौक रहा था .....ऐसा लगा उसने अपनी पुरी शक्ति लगा दी हो । बेचारा कूडे वाला उसकी तो जान ही अटक गई थी । दो तिन और कुत्तें वही बैठे हुए थे । वे सब ऊँघ रहे थे । उनको कोई फर्क नही पड़ा की उनका एक साथी कुछ कर रहा है । मुझे यह देख घोर आर्श्चय हुआ । गाँव याद आ गया । गाँव में अगर किसी एक मुद्दें को लेकर कोई कुत्ता भौकना शुरू करता था तो मजाल है की उसके आस पास के कुत्तें चुप रहे । वे तुंरत यूनिटी दिखाते हुए साथ देने लगते ।
आज सोचता हूँ की इंसान शहरी होकर एक दुसरे के साथ मिलना जुलना ,दुःख दर्द में शरीक होना तो छोड़ ही चुका है .....इसका असर शहरी कुत्तों पर भी पड़ा है ,तभी तो वे उस यूनिटी को भूल चुके है जो कभी उनकी विरासत रह चुकी है । मै इसे सोचते सोचते आगे बढ़ गया ..... लड्डू चलो चुपचाप...... आगे अभी बहुत से बदलाव देखने है । एक दिन तो इंसानियत को भी ख़त्म होते देखना है .....तब मुझे लगा की ये तो एक छोटी सी बात है और मेरे कदम आगे बढ़ गए ।

3 comments:

अमिताभ श्रीवास्तव said...

markji,
achhi soch he/ kintu aapko bataa du, insaniyat khatm nahi ho sakti/ sukhad lagega aapko yeh jaankar/ insaniyat sanatan he/ yahi ishvariya tatv he/ jo sanatan hota he usaka ant nahi hota/ hnaa ye kam dikhai deti he, kahaa jaa sakta he, kintu..hamare dekhane me fark he/ insaan he to usake paas insaniyat hogi hi/ ab is paksh ko bhi dekhe,
aap sochenge fir ye roj roj ke apraadh, atyachaar aadi kyo?
manovigyaan me ise shanik aavesh kahaa jaataa he/ is aavesh me aadmi kya koi bhi aapaa bhool jaataa he/ insaniyat tab bhi jindaa hoti he kintu dabi si, baad me use pachhtava jaroor hota he// ye vishaya bahut badaa he, samjhaane ke liye kaafi vaqt chahiye, aapko sirf itanaa kah doo ki insaan jab tak he insaaniyat khatm nahi hone vaali/ ynhaa me INSAAN ki baat kar rahaa hoo, HEVANO ki nahi/

Shama said...

Mark,
Aapko bade dinon baad apne blog pe dekha..achha laga..mai khud kharab tabiyatke chalte netpe baith nahee paa rahee thee...
Haan, Amitabh ji ne sach kaha hai...har yug me achhe bure log eksaath janme, jiye aur mare hain...insaaniyat har haalme zinda rahegee...rahee hai..
Aur yebhi kahungi,ki, ham haivanon ko kyon badnaam karte hain? Unhen to qudratne jaisa banaya wo waisahee karte hain...! Balki, 'aadamee'ko haiwan kehna, kayee baar haivanon ke liye sharmnaaq ho sakta hai...!
"Dharan karo so dharm"..ye 'dharm' shabd kee sahee wyakhya hai...ham dharm shabd ko sampradaay se jod dete hain..

shama said...

बड़ा सही कहा ..शहरों में पड़ोस जैसी चीज़ रही नही ...सब अपने अपने दडबों में बंद !लाखों लोग ,लेकिन इंसान फिरभी अकेला !

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com